खोज करे
  • Mahesh Beldar

How to control anger? Powerful Tips

गुस्से की एक खासियत हे, वह सिर्फ कमजोर पर ही आता हे.



anger management tips in hindi


गुस्से के वक्त दिमाग में कुछ नहीं होता, केवल आभास होता हे की कुछ हो रहा हे.


एक company में कुछ workers कांच की bottle को box में pack करने का काम कर रहे थे, वहा पर उनका supervisor भी खड़ा था जो उन पर देखरेख रख रहा था, packing करते वक्त एक worker से गलती से कांच की bottle हाथ से गिर गई और टूट गई, यह देख वहा खड़ा supervisor बहोत गुस्से हो गया, उसने उस worker को बहुत खरी खोटी सुनाई और बात हाथा पाई तक आ गई.


अब यह story जो हमने आगे पढ़ी उसे समजते हे, worker से गलती से bottle हाथ से गिर गई थी, उसने जान बुज कर गिराई नहीं थी, supervisor उसे प्रेम से भी समझा सकता था की भाई देखकर काम करो, तुम्हारी गलती की वजह से company को आज इतने रुपयों का नुकशान हो गया, शायद worker समझ भी जाता और ऐसी गलती दुबारा न करता.


और अब bottle टूट ही गई थी, गुस्सा होने पर भी वह वापस जुड़ने वाली तो थी नहीं.


जो बात हमने आगे पढ़ी गुस्सा केवल कमजोर पर ही आता हे.

Supervisor को गुस्सा क्यों आया था क्युकी वह एक supervisor था और दूसरा एक worker था, मतलब की एक कमजोर था और दूसरा उससे powerful, यदि यही bottle supervisor के boss से टूट गई होती तो, क्या supervisor को गुस्सा आता? नहीं.


यहा हमे वह कौन सी बात हे जो समझमे आती हे, यही की, हम चुनाव कर सकते हे, की हमे गुस्सा करना हे या नहीं.


Supervisor के दिमाग में क्या हुआ था जब bottle टूट गई थी, कुछ भी तो नहीं, क्या उसके दिमाग में आग लग गई थी, नहीं, तो वह गरम क्यों हुआ था, क्युकी बचपन से लेकर आज तक उसने ऐसा ही देखा हे, महसूस किया हे की, किसी से गलती हो तो गुस्सा हो, कोई कही बात न माने तो गुस्सा हो, मतलब कुछ भी जो हमारे मन मुताबिक नहीं होता तो हम गुस्सा होते हे.


जिसे गुस्सा आया हो उसका दिमाग यदि आप खोलकर देख सके तो आप पायेंगे की उसमे गुस्सा नाम की चीज तो आपको मिलेगी ही नहीं, हां आपको उसमे muscles और blood जरुर मिलेगा लेकिन गुस्सा नहीं मिलेगा, क्यों? क्युकी वह तो एक thought हे जिसका कोई अस्तित्व नहीं हे, वह तो एक मृगजल की भाती हे, तो वह आपको कैसे मिलेगा.


Effective tips to control anger


गुस्से के वक्त आपके दिमाग में जो कुछ भी हो रहा हो उस पर ध्यान दीजिये, line हमेसा सीधी ही रहती हे, केवल आपको लगता हे की वह ऊपर निचे हो रही हे.


जब चीजे आपके मन मुताबिक न हो, कोई आपकी कही बात न बाते, कोई गलती करे वगैरह सिचुएशन में आप गुस्सा होने की acting कर सकते हे, जिस तरह actor movie में acting करते हे उस तरह.


इससे होगा क्या? इससे आपका काम हो जाएगा और आपका पारा ऊपर नहीं चढ़ेगा, आपका खुद पर नियंत्रण रहेगा, जिससे आपको जीवन में काफी फायदा होगा, जो जीवन में आगे चलकर आपको दिखने भी लगेगा.

15 व्यूज

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें