खोज करे
  • Mahesh Beldar

Half Knowledge is Dangerous Story in Hindi

ज्ञानी होना अच्छी बात हे, हमे जरुरी सभी चीजो का ज्ञान होना चाहिए, लेकिन वह ज्ञान अधुरा नहीं होना चाहिए पूरा होना चाहिए, अधुरा ज्ञान खतरनाक होता हे, ऐसा ज्ञान किसी काम का नहीं होता, इसकी वजह से किसी भले इन्शान का नुकशान हो सकता हे, अधुरा ज्ञान किस तरह नुकशान पंहुचा सकता हे इस सम्बन्ध में एक interesting story हे जो कुछ इस प्रकार से हे.


How Half Knowledge Dangerous? - A Story of a Businessman


एक businessman था जिसका business बहोत ही अच्छा चल रहा था, इसलिए उसने अपने आस पास के शहरो में भी अपना business बढ़ाने की योजना बनायीं, एक दिन एक व्यक्ति आया और वह उस businessman को बोला की में आपके साथ partnership करना चाहता हु, उस businessman को अपना business बढ़ाने के लिए partner की आवश्यकता तो थी ही इसलिए उसने एक अनजान व्यक्ति को भी अपने business में शामिल कर लिया, अब दोनों partnership में business करने लगे, नया partner बहुत ही मेहनती था, वह दिन रात खूब मेहनत करता था.


उन दोनों की मेहनत की बदोलत business बहुत ही तेजीसे आगे बढ़ने लगा, यह देख वह businessman बहुत ही खुश था, एक दिन उस बिजनेसमैन का एक friend उससे मिलने के लिए आया, उसने उस बिजनेसमैन के partner को देखा, वह उसे देखते ही पहचान गया की यह तो एक नंबर का ठग हे, यह लोगो का विस्वास जीत कर बादमे चोरी करता हे.





उस businessman का जो friend था वह अपने आप को शाश्त्रो का जानकार और उचा ग्यानी मानता था, उसने कही पर पढ़ा था की किसी की बुराई नहीं करनी चाहिए, इसलिए उसने नए partner की सच्चाई बिजनेसमैन को नहीं बताई, उल्टा उसने उसको बोला की तुम्हारा नया partner तो बहुत ही होशियार और मेहनती हे यह सभी का विश्वास जीत लेता हे.


यह बात सुनकर बिजनेसमैन को प्रशन्नता हुइ, क्युकी उसका जो नया partner था वह मेहनत तो कर ही रहा था, उसने वह बिजनेसमैन का विश्वास भी जीत लिया था, अब उस बिजनेसमैन के तिजोरी की चाबी भी नए partner के पास ही रहती थी, एक रात को मौका पाकर वह सारा पैसा लेकर भाग गया.


सुबह जब businessman नींद से जागा तो उसने देखा की उसका सारा पैसा गायब हे और उसका नया partner भी कही नहीं दिख रहा, दुखी बिजनेसमैन अपने उस friend के पास पंहुचा और उसे पूरी बात बताई.

businessman का friend बोला की में यह बात तो पहले से ही जानता हु की वह एक नंबर का ठग हे, वह मेहनत करके लोगो का भरोषा जीत लेता हे और फिर मौका पाकर सारा पैसा लेकर भाग जाता हे.

अब आप उस बिजनेसमैन की जगह होते तो क्या करते, जरुर उसको दो-तीन थप्पड़ लगाते लेकिन वह बिजनेसमैन आपके जैसा नहीं था वह उसपर काफी गुस्सा हुआ, और कहा की यदि तुम्हे यह बात पता थी तो मुझे पहले क्यों नहीं बताया? आज मेरी जीवनभर की कमाई लुट गई.


उस businessman का friend बोला की में कभी किसी की बुराई नहीं करता हु, क्युकी बुराई करना पाप हे, यह मैंने शास्त्रों में पढ़ा हे, इसलिए मैंने उसकी बुरी बाते तुम्हे नहीं बताई.


उस ज्ञानी friend की बात सुनकर उस businessman ने कहा की मुर्ख तुम्हारे अधूरे ज्ञान की वजह से आज में लुट गया बर्बाद हो गया.


हमे बचपन से ही यह शिखाया जाता हे की किसी की बुराई करना पाप हे, हमे किसी की बुराई नहीं करनी चाहिए, लेकिन इसके साथ हमे यह भी देखना चाहिए की यदि कोई बुरा हे, वह किसीको नुकशान पंहुचा सकता हे तो हमे उसकी सच्चाई जरुर बतानी चाहिए.

IF YOU LIKE IT SHARE IT WITH OTHERS

9 व्यूज
  • YouTube
  • Facebook
  • Twitter
  • Instagram

Practical शिक्षा

© 2023 by Practical Shiksha.

Proudly created with practicalshiksha.com

Privacy Policy | Disclaimer

Contact

Ask me anything