खोज करे
  • Mahesh Beldar

How To Deal With Any Problems?

एक राजा था जो बड़ा पराक्रमी था और उसका बहोत बड़ा राज्य था, लेकिन उसकी कोई सन्तान नहीं थी, उसकी उम्र लगातार ढलती जा रही थी और वह अपने भावी उत्तराधिकारी को लेकर काफी चिंतित था, सन्तान प्राप्ति के लिए उसने काफी वैधो को दिखाया लेकिन उसे सन्तान सुख नहीं मिला, एक दिन वह जब बैठा हुआ था तो उसे विचार आया की क्यों न राज्य की भागदौड अपने ही राज्य के किसी योग्य नवयुवक को सोप दी जाए, राजा ने इसके लिए परीक्षण का आयोजन किया जिससे वह अपने भावी उत्तराधिकारी का चयन कर सके.


इस परीक्षण के लिए एक खास एक शानदार महल का निर्माण किया गया, महल के दरवाजे पर एक गणित का समीकरण लिखा गया और इसकी घोसणा पुरे राज्य में कर दी गई, राज्य के सभी नवयुवको को आमंत्रित किया गया, उनसे कहा गया की वह इस दरवाजे को खोले और जो भी इस दरवाजो को खोलने में सफल होगा उसे यह महल उपहार में दे दिया जाएगा और साथ ही उसे इस राज्य का उतराधिकारी भी घोषित कर दिया जाएगा.

इस घोसणा के बाद महल के आगे नवयुवको की लाइन लग गई, सभी उस गणित के सवाल का हल खोजने में लग गये, सुबह से शाम हो गई लेकिन कोई भी उस पहेली को हल नहीं कर पाया, कई लोग तो समीकरण को लिखकर घर ले गये और वहा उसका हल खोजने लगे लेकिन वह असफल रहे.


ऐसा करते करते कई दिन बीत गये, राज्य के बड़े से बड़े गणितग्य भी इस समीकरण का हल नहीं निकाल पाए, इसके बाद राजा ने दुसरे राज्यों के नवयुवको को भी आमंत्रित किया लें वह भी इसका हल नहीं निकाल पाए, दिल ढलने लगा और अंत में तीन लोग ही बचे थे, उनमे से जो दो थे वह दुसरे राज्य के गणितज्ञ थे तो तीसरा एक छोटेसे गाव का नवयुवक था, दोनों गणितग्य समीकरण को हल करने की कोशिश में लगे थे, लेकिन वह गाव का युवक कोने में खड़ा था, राजा ने उसे देखा और पूछा की क्या तुम दरवाजे पर लिखे समीकरण को हल नहीं करोगे.





युवक बोला की में तो यहाँ इन गणितज्ञो को देखने आया हु, यह इतने बड़े गणितग्य हे तो इन्हें समीकरण का हल करने दीजिये, अगर इन्हो ने समीकरण हल कर दिया तो यह राज्य के उत्तराधिकारी बन जायेंगे, और यदि नहीं कर पाए तो में कोशिश करूँगा, यह कहकर वह गनित्ग्यो को देखने लगा जिसमे शाम से रात हो गई लेकिन दोनों मे से कोई भी उस समीकरण को हल नहीं कर पाया, जब उन दोनों ने हार मान ली तो कोने में बैठा युवक दरवाजे के पास गया और दरवाजे को धीरे से धक्का दिया और वह खुल गया, यह देख सभी ने उससे पूछा की आखिर उसने दरवाजा कैसे खोला, उसने कहा की जब में बैठकर सभी को समीकरण हल करते देख रहा था तो मेरे दिमाग में आया की दरवाजा खोलने का कोई समीकरण तो होता नहीं हे, तो मैंने दरवाजे को धक्का दे दिया और वह खुल भी गया, "दरवाजा खोलने का कोई समीकरण था ही नहीं".


यह देख सभी बहुत प्रसन्न हुए, उस युवक को राजा ने महल दे दिया और साथ ही राज्य का उत्तराधिकारी भी घोषित कर दिया.


How To Deal With a Problems?


कई बार हम जीवन में ऐसी स्थितियों में फस जाते हे जहा हमको छोटी समस्या भी बड़ी लगने लगती हे, लेकिन वास्तव में समस्या इतनी बड़ी भी नहीं होती जीतनी हम सोच रहे होते हे, हम उस समस्या में उलज जाते हे और उसका समाधान नहीं कर पाते, ऐसे में हमे ठंडे दिमाग से सोचने की जरुरत होती हे, समस्या का समाधान अपने आप ही निकल जाता हे या फिर हमारे थोड़े प्रयास के बाद मिल जाता हे, ऐसे में थोडा ठहरिये और शांति से सोचे और फिर समाधान करने का प्रयास करे.


IF YOU LIKE IT SHARE IT WITH OTHERS

5 व्यूज

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें
  • YouTube
  • Facebook
  • Twitter
  • Instagram

Practical शिक्षा

© 2023 by Practical Shiksha.

Proudly created with practicalshiksha.com

Privacy Policy | Disclaimer

Contact

Ask me anything